Connect with us

उत्तराखंड

कांग्रेसियों ने खोली पोल तो स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को भी आई व्यवस्था की याद..

देहरादून, कांग्रेस के नेताओं ने स्वास्थ्य विभाग के चंदन नगर स्थित मुख्य स्टोर पर धावा बोला तो अधिकारियों को भी आनन-फानन में चार धाम यात्रा और कोविड-19 की याद आ गई, अधिकारी तुरंत मौके पर पहुंचे और व्यवस्थाओं का जायजा लिया ।दरअसल बीते रोज कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता गरिमा दसोनी और शिशपाल बिष्ट चंदन नगर स्थित स्वास्थ्य महानिदेशालय के मुख्य स्टोर पर पहुंचे जहां उन्होंने तमाम उपकरणों और दवाओं को लेकर संबंधित कर्मचारियों से जानकारी हासिल की जिसके बाद पता चला कि साल 2019 और 2020 में कोरोना लहर के दौरान खरीदे गए उपकरण अभी तक अस्पतालों में नहीं पहुंचे है। लेकिन स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी खरीदारी को लेकर इतने मुस्तैद नजर आ रहे हैं कि जैसे कोरोना अभी आ गया तो स्वास्थ्य विभाग के पास उपकरण ही नहीं है लेकिन अधिकारी अभी भी पुरानी व्यवस्थाओं से पार पाते हुए दिखाई नहीं दे रहे हैं उपकरणों की खरीद को लेकर जबरदस्त प्रस्ताव तैयार किए जा रहे हैं जिससे सरकारी पैसे को जल्द से जल्द ठिकाने लगाया जा सके।। आलम यह है कि मशीनों को चलाने वाले मुलाजिम तक विभाग के पास नहीं है और खरीदारी को लेकर पूरा महकमा दिन रात मेहनत कर रहा है।।आज महानिदेशक की अध्यक्षता में डा० सुनीता टम्टा, निदेशक भण्डार, डा० जितेन्द्र नेगी, संयुक्त निदेशक भण्डार, आर०पी० सेमवाल चीफ फार्मेसी अधिकारी, डी० के० चमोली चीफ फार्मासिस्ट व अन्य दो अधिकारियों ने गहन निरीक्षण किया गया एंव आगामी चारधाम यात्रा तथा नवीन कोदिङ परिस्थितियों के दृष्टिगत आवश्यक निर्देश पारित किये गये है।

यह भी पढ़ें 👉  सीएम धामी ने उत्तराखण्ड लोक सेवा आयोग से चयनित सहायक अभियोजन अधिकारियों को दिए नियुक्ति पत्र…

• निरीक्षण में पाया गया कि चन्दरनगर स्थित केन्द्रीय औषधि भण्डार (सी०एम०एस०डी) में लगभग सभी आवश्यक एवं जीवनदायनी औषधियाँ उपलब्ध थी एवं उनका भण्डारण, बफर स्टाक नियमों के अन्तर्गत किया जा रहा है, एवं आगामी चारधाम यात्रा के दृष्टिगत औषधियो का वितरण तथा आपूर्ति श्रृंखला नियमानुसार सम्पादित हो रही है। भण्डार में आपातकालीन / अपरिहार्य स्थितियो हेतु Buffer stock हमेशा उपकरण, औषधियां, वैक्सिन का न्यूनतम स्टाक रखना बाछनीय एंव अनिवार्य होता है। निरीक्षण के दौरान पाया गया कि औषधियों को भण्डारण व वितरण ड्रग वेयर हाउस प्रबन्धन के FEFO एवं FIFO (First expiry First out व First in first out सिद्धान्तों के अनुसार ही हो रहा है। भण्डार में औषधियों / सामग्रीयों के भण्डारण तथा movement आधुनिक लाजिस्टिक मूवमेन्ट प्रणाली के अनुसार किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  महिला कांग्रेस के स्थापना दिवस के अवसर पर प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में किया गया ध्वजारोहण

• CSR अन्तर्गत तथा भारत सरकार से प्राप्त कोविड-19 से सम्बन्धित उपकरणों को पूर्व में ही आवश्यता एवं मांग अनुरूप जनपदीय परिधिगत अधिकारियों को आपूर्ति की किये जा चुके हैं, एवं किसी भी अप्रत्याशित सार्वजनिक व जन स्वास्थ्य संकट की स्थिति में मांग से सम्भावित वृद्धि हेतु मे भण्डार मे कुछ उपकरण स्टाक किये गये है।
भण्डार मे वाछित रेफिजिरेटर ( Deep freezer) की उपलब्धता Temperature sensitive औषधियों एवं वेक्सीन के सुरक्षित भंडारण व स्पलाई चेन हेतु स्थापित किये गये है। जिनमे रोटावायरस वैक्सिन पायी गयी।