Connect with us

उत्तराखण्ड

देहरादून पहुंचे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किया शौर्य स्थल का उद्घाटन, सोल ऑफ स्टील एल्पाइन चैलेंज प्रतियोगिता का शुभारंभ

देहरादून दौरे पर पहुंचे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार को देहरादून के गढ़ी कैंट स्थित चारबाग में बने उत्तराखंड के पहले शौर्य स्मारक के रूप में शौर्य स्थल का उद्घाटन किया। हालांकि इस दौरान उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और देश के सीडीएस मनोज चौहान भी मौजूद रहे। हालांकि, सीडीएस बनने के बाद मनोज चौहान का यह पहला उत्तराखंड दौरा था। शौर्य स्थल का उद्घाटन करने के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने देहरादून गढ़ी कैंट आर्मी एरिया में सेना द्वारा प्लास्टिक वेस्ट से तैयार किए गए रेसिंग ट्रैक का भी उद्घाटन किया।

वहीं, इसके अलावा रक्षा मंत्री राजनाथ देहरादून में सोल ऑफ स्टील एल्पाइन चैलेंज प्रतियोगिता का शुभारंभ किया। यह प्रतियोगिता भारतीय सेना और CLAW ग्लोबल जो कि विशेष बलों के महारथी रहे लोगों द्वारा संचालित एक एडवेंचर स्पोर्ट संगठन है। भारतीय सेना की सबसे पुरानी ब्रिगेड (Ibex Brigade) और वेटरन द्वारा शुरू किया गया। स्टार्ट अप CLAW ग्लोबल की शुरुआत 2019 में हुई थी। CLAW और सेना के संयुक्त प्रयासों से देहरादून में साहसिक खेलों के प्रति आम लोगों में बढ़ावा देने के लिए सोल ऑफ स्टील एल्पाइन चैलेंज का आयोजन किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  कोटद्वार में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भाजपा प्रत्याशी अनिल बलूनी को लोकसभा पहुँचाने की की अवाम से अपील...

इस तरह के तमाम प्रयासों से आम लोगों को साहसिक गतिविधि के प्रति जागरूक करने के लिए आर्मी एडवेंचर विंग और CLAW एक बैनर तले एक साथ आए हैं। सेना और CLAW के बीच हुए एमओयू के अनुसार सेना जरूरत पड़ने पर उपलब्धता, आपातकालीन परिस्थितियों में CLAW मदद करेगी और इन्ही सब प्रयासों को बढ़ावा देने के लिए कल देहरादून में एक सोल ऑफ स्टील एल्पाइन चैलेंज रखा गया है। हालांकि, देहरादून पहुंचे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह एडवेंचर कार रैली को भी फ्लैग ऑफ किया।

उत्तराखंड में शुरू होने जा रहे इस चैलेंज को 4 चरणों आयोजित किया जा रहा है। अंतरराष्ट्रीय प्रतिभागी तीसरे चरण में शामिल होंगे। सभी प्रतियोगी आज से फ्लैग ऑफ के बाद वेबसाइट पर पार्टिसिपेट के लिए रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। गढ़वाल हिमालय में चैलेंज के अंतिम चरण में कई अंतरराष्ट्रीय टीमें भी भाग लेंगी। आईबेक्स ब्रिगेड और क्लॉ ग्लोबल इस चुनौती के लिए आर्मी एडवेंचर विंग के बैनर तले एक साथ आए हैं। इससे रोजगार के अवसर सृजित होंगे और राज्य में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा।

यह भी पढ़ें 👉  मुख्यमंत्री ने मझौला, पीलीभीत में 'जन सम्मेलन' कार्यक्रम में किया प्रतिभाग

वही, कार्यक्रम में पहुंचे सीएम धामी के कहा कि सेवानिवृत सैनिकों और देवभूमि में आ कर रक्षा मंत्री ने सभी का मनोबल बढ़ाने का काम किया है। देवभूमि उत्तराखंड ने अनेकों वीर सैनिक देश को दिए है। अपने शौर्य और प्रक्रम के चलते दुश्मनों को मुंह तोड़ जवाब दिया है। एक समय था जब अलगाववादियों, जिहादियों या फिर आतंकवादियों की गोली आती थी तो जवाबी कार्यवाही के लिए पूछना पड़ता था, लेकिन आज भारतीय सेना गोली का जवाब गोलों से दे रही है। आज सेना को सैन्य सामानों के साथ ही बेहतर सुविधाएं मिल रही है। एक सैनिक का दूसरे सैनिक के साथ भाई जैसा नाता होता है। उत्तराखंड सरकार, राज्य में सैनिक कल्याण के लिए काम कर रही है। सैन्य धाम का बहुत तेजी से चल रहा है। दिसंबर तक सैन्य धाम का काम पूरा हो जाएगा। आने वाले पीढ़ी सैनिकों की प्रक्रम से भलीभाती वाकिफ हो सके इसके लिए सैन्य धाम बनाया जा रहा है।

More in उत्तराखण्ड

Trending News

Follow Facebook Page