Connect with us

उत्तराखण्ड

चार धाम यात्रा को लेकर अधिकारी मुस्तैद, अब तक 16 लाख लोगो ने किए चारो धामों के दर्शन…

उत्तराखंड चार धाम की यात्रा इन दिनों जोरों शोरों पर चल रही है। चारधाम की यात्रा को शुरू हुए 1 महीने का वक्त बीत गया है। एक महीने के दौरान 16 लाख से अधिक श्रद्धालु चारों धामों के दर्शन कर चुके हैं। तो, वही मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश के बाद चारधाम में की गई व्यवस्थाओं को लेकर अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने पर्यटन विभाग, स्वास्थ्य विभाग और पुलिस विभाग के साथ संयुक्त प्रेस वार्ता को संबोधित किया।

वही, अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने कहा कि उत्तराखंड चारधाम यात्रा धार्मिक सांस्कृतिक आर्थिक एवं पर्यटन की दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण है। चारधाम यात्रा को सुचारू एवं सुरक्षित बनाए जाने को लेकर पर्यटन, धर्मस्व, चिकित्सा, परिवहन, नागरिक उड्डयन एवं जिला प्रशासन द्वारा तमाम व्यवस्थाएं मुकम्मल कराई जा रही है। साथ ही कहा कि पर्यटन विभाग की ओर से सभी यात्रियों का पंजीकरण अनिवार्य किया गया है। आयुक्त गढ़वाल मंडल की ओर से चारधाम यात्रा की व्यवस्थाओं के लिए इस साल 3 करोड रुपए की धनराशि जारी की गई है। और जल्द ही एक करोड़ रुपए की धनराशि अतिरिक्त जारी की जाएगी।

यह भी पढ़ें 👉  प्रियंका ने ध्वस्त किए भाजपा के हवाई किले : राजीव महर्षि

प्रेसवार्ता के दौरान स्वास्थ्य सचिव राधिका झा ने बताया कि 2019 की तुलना में इस साल सुरक्षित चारधाम यात्रा के लिए चिकित्सा विभाग द्वारा अधिक व्यवस्थाएं की गई हैं। चार धाम यात्रा में 178 चिकित्सा अधिकारियों की तैनाती की गई है जो कि 2019 की तुलना में 66 फ़ीसदी अधिक है। फर्स्ट मेडिकल रिस्पांडर एवं मेडिकल रिलीफ पोस्ट की संख्या बढ़ाई गई है। ह्रदय रोगियों के उपचार के लिए पहली बार विशेषज्ञ चिकित्सकों को कार्डियोलॉजी में ट्रेनिंग देकर तैनात किया गया है। यात्रियों को त्वरित चिकित्सा सहायता के लिए पहली बार हेली एंबुलेंस की सेवा दी जा रही है। 2019 की तुलना में 108 एंबुलेंस द्वारा दी गई सेवाओं में 173 फ़ीसदी की बढ़ोतरी हुई है। साल 2017 में भी 112 यात्रियों की हृदय गति रुकने से मृत्यु हुई थी।

यह भी पढ़ें 👉  कोटद्वार में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भाजपा प्रत्याशी अनिल बलूनी को लोकसभा पहुँचाने की की अवाम से अपील...

साथ ही राधिका झा ने यात्रियों से अनुरोध किया कि पूर्व स्वास्थ्य परीक्षण एवं चिकित्सीय परामर्श के बाद ही यात्री, अपनी यात्रा शुरू करे। राज्य में पहली बार यात्रा मार्गो पर हेल्थ स्क्रीनिंग की व्यवस्था की गई है। जिसमें चारधाम यात्रा रूटों के 9 मार्गों पर हेल्थ स्क्रीनिंग की जा रही है। अभी तक चारधाम यात्रा के दौरान 87 यात्रियों को स्क्रीनिंग के बाद वापस लौटया गया। चारधाम यात्रा में अत्यधिक श्रद्धालुओं की संख्या होने के चलते सभी की हेल्थ स्क्रीनिंग करना संभव नहीं है। जिसके चलते 50 वर्ष से अधिक आयु के सभी यात्रियों की स्क्रीनिंग की जा रही है। अभी तक 2 लाख से अधिक रोगियों की हेल्थ स्क्रीनिंग की गई है। जिसमें 71646 यात्रियों को ओपीडी में, 381 रोगियों को एंबुलेंस सेवा, 5000 से अधिक यात्रियों को इमरजेंसी सेवा और 30 रोगियों को हेलीकॉप्टर एंबुलेंस के माध्यम से एम्स ऋषिकेश पहुंचाया गया है।

Continue Reading
You may also like...

More in उत्तराखण्ड

Trending News

Follow Facebook Page